Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव की अध्यक्षता में आज यहां लोक भवन में सम्पन्न मंत्रिपरिषद की बैठक
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव की अध्यक्षता में आज यहां लोक भवन में सम्पन्न मंत्रिपरिषद की बैठक

सेवा के दौरान मृतक पुलिस कार्मिकों के माता-पिता के लिए 5 लाख रु0 की अतिरिक्त अहेतुक सहायता प्रदान करने का फैसला

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव की अध्यक्षता में आज यहां लोक भवन में सम्पन्न मंत्रिपरिषद की बैठक में सेवा के दौरान मृतक पुलिस कार्मिकों के माता-पिता के लिए 5 लाख रुपए की अतिरिक्त अहेतुक सहायता प्रदान करने का फैसला लिया गया। मंत्रिपरिषद ने यह निर्णय भी लिया कि इस प्रकार के प्रकरणों में किसी परिस्थिति विशेष के दौरान मुख्यमंत्री द्वारा अपने विवेकाधीन अनुग्रह धनराशि निर्धारित दरों से अधिक अनुदान स्वीकृत करने का औचित्य दिखाई देता हो, तो वे उससे अधिक अनुदान स्वीकृत कर सकते हैं। इस व्यवस्था में किसी भी परिवर्तन के लिए मुख्यमंत्री सक्षम स्तर होंगे।

पुलिस विभाग के अधिकारियों/कर्मचारियों की विशेष जोखिम भरे कार्य के दौरान अदम्य व विशिष्ट वीरता प्रदर्शित करने के दौरान मृत्यु होने पर शहीद/मृतक पुलिस कार्मिक के आश्रित पति/पत्नी को अहेतुक रूप में वर्तमान में 20 लाख रुपए की धनराशि उपलब्ध कराई जाती है। इसमें कतिपय पारिवारिक कारणों से सामंजस्यता स्थापित न होने के फलस्वरूप शहीद/मृतक के वृद्ध माता-पिता को दैनिक जीवनयापन में कठिनाई होती है, इसके निराकरण हेतु ड्यूटी के दौरान मृतक पुलिस कार्मिकों के माता-पिता के लिए 5 लाख रुपए अतिरिक्त अहेतुक सहायता का निर्णय लिया गया है।

इस निर्णय का लाभ उत्तर प्रदेश के मूल निवासी, जिनका परिवार उत्तर प्रदेश में निवास कर रहा हो तथा जो केन्द्रीय अर्द्ध सैन्य बलों/अन्य प्रदेशों के अर्द्ध सैन्य बलों तथा भारतीय सेना मंे कार्यरत रहते हुए, कर्तव्यपालन के दौरान आतंकवादी/अराजक तत्वों की गतिविधियों में हुई हिंसा, देश की सीमा पर अन्तर्राष्ट्रीय युद्ध या सीमा पर छुट-पुट घटनाओं अथवा लड़ाकू/आतंकवादियों अथवा अतिवादियों आदि की गतिविधियों के फलस्वरूप प्रदेश के बाहर मृत्यु होने की स्थिति में भी अनुमन्य है। इसके अलावा, उत्तर प्रदेश के बाहर के निवासियों, जो भारतीय सेना अथवा केन्द्रीय/अन्य राज्यों के अर्द्ध सैनिक बलों में कार्यरत हों तथा जिनकी कर्तव्यपालन के दौरान इन्हीं परिस्थितियों में उत्तर प्रदेश के अन्दर मृत्यु हो जाए, उन्हें भी यह लाभ अनुमन्य है।