Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों के सम्मेलन को सम्बोधित किया
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों के सम्मेलन को सम्बोधित किया

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों के सम्मेलन को सम्बोधित किया

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा है कि वर्तमान राज्य सरकार ने वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों के सहयोग से ऐतिहासिक कार्य किए हैं। उन्होंने कहा कि आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे, लखनऊ मेट्रो रेल परियोजना, निःशुल्क लैपटाॅप वितरण योजना, समाजवादी पेंशन योजना, लोहिया ग्रामीण आवास योजना, कामधेनु डेयरी परियोजना एवं बिजली सुधार आदि की दिशा में किए गए कार्यों के नतीजे जनता के सामने आने लगे हैं। उन्होंने समाजवादी सरकार को ओपेन, लिबरल एवं डेमोक्रेटिक सरकार बताते हुए महत्वपूर्ण परियोजनाओं को जमीन पर उतारने के लिए प्रशासनिक अधिकारियों को बधाई दी।

मुख्यमंत्री आज यहां लोक भवन में प्रदेश के वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों के सम्मेलन को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने अधिकारियों का आह्वान करते हुए कहा कि 19 दिसम्बर, 2016 को प्रदेश के सभी जनपद मुख्यालयों में निःशुल्क लैपटाॅप सहित अन्य योजनाओं के चयनित लाभार्थियों को लाभान्वित करने हेतु आयोजित शिविरों को सफल बनाने के लिए गम्भीरता से काम करें। उन्होंने कहा कि समाजवादी सरकार प्रदेश की पहली ऐसी सरकार है, जोे विगत साढ़े चार वर्षों में शिलान्यास की गईं अधिकांश परियोजनाओं को समय से पहले पूरा कराकर जनता को सौंपने का काम कर रही है। इसी कड़ी में लखनऊ में 20 दिसम्बर, 2016 को उनके द्वारा कई परियोजनाएं जनता को समर्पित की जाएंगी।

श्री यादव ने कहा कि समाजवादी सरकार ने कई विश्वस्तरीय परियोजनाओं को समय से पहले पूरा करके यह साबित कर दिया है कि उचित माहौल मिलने पर वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी इस प्रकार की परियोजनाओं को जमीन पर उतारने की क्षमता रखते हैं। आने वाले समय में लखनऊ मेट्रो रेल की तरह ही कानपुर, इलाहाबाद, वाराणसी और मेरठ में भी मेट्रो रेल संचालित करने के लिए युद्ध स्तर पर काम किया जाएगा। इसी प्रकार आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे को रिकार्ड समय में पूरा कराने के लिए इस परियोजना के अधिकारियों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि इसी पैटर्न पर काम करते हुए समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे परियोजना को भी पूरा कराया जाएगा। इस एक्सप्रेस-वे के लिए लगभग 40 फीसदी जमीन की व्यवस्था की जा चुकी है। समाजवादी स्मार्ट फोन योजना की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि आगामी समय में इस योजना को निःशुल्क लैपटाॅप वितरण योजना की तरह ही लागू करते हुए लाभार्थियों तक स्मार्ट फोन पहुंचाया जाएगा। उन्होंने कहा कि अब तक स्मार्ट फोन योजना के लिए करीब 01 करोड़ लोगों का पंजीयन हो चुका है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिकारियों की बेहतर कार्यप्रणाली एवं ईमानदारी से उनकी व्यक्तिगत छवि अच्छी बनने के साथ-साथ सरकार के प्रति जनता की सोच में बदलाव आता है। सूखा एवं ओलावृष्टि के कारण बुन्देलखण्ड क्षेत्र की जनता की कठिनाइयों की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि उस दौरान वहां तैनात अधिकारियों ने घर-घर जाकर समाजवादी सूखा राहत पैकेट वितरित कराने का काम किया था, जिसकी सराहना वहां की जनता खुले मन से करती है। देश में शायद ही ऐसा कोई उदाहरण मौजूद हो, जहां अधिकारियों के सहयोग से गरीब जनता को इस प्रकार का सहयोग उपलब्ध कराया गया हो। शहरों में ठोस कूड़े के निस्तारण एवं टैªफिक की बढ़ती समस्या का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि इनके समाधान के लिए गम्भीर प्रयास की जरूरत है। बड़े नगरों में मेट्रो रेल परियोजनाएं काफी हद तक सार्वजनिक यातायात को सुधारने में मदद करेंगी।

नगरों में 24 घण्टे तथा ग्रामीण क्षेत्रों में लगभग 18 घण्टे बिजली उपलब्धता की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके लिए विद्युत विभाग के अधिकारियों ने लगातार परिश्रम किया है। पिछले साढ़े चार साल में बिजली उत्पादन, पारेषण एवं वितरण के क्षेत्र में किए गए कार्यों के परिणामस्वरूप ही आज प्रदेश सरकार पर्याप्त विद्युत आपूर्ति कर पा रही है। इसी प्रकार ‘यू0पी0-100’ परियोजना का प्रदेश की कानून-व्यवस्था और विशेष रूप से गरीबों को मिलने वाले लाभ की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इस परियोजना से प्रदेश के बारे में लोगों की धारणा बदल जाएगी। उन्होंने पशुपालन विभाग द्वारा एक फोन पर मौके पर पहुंचकर पशुओं के इलाज की व्यवस्था की सराहना करते हुए कहा कि समाजवादी सरकार इंसानों के इलाज की मुकम्मल व्यवस्था के साथ-साथ पशुओं के इलाज के लिए भी काम कर रही है। इसी प्रकार मेगा काॅल सेण्टर, लायन सफारी तथा बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण जैसे कार्यों का उल्लेख करते हुए उन्होंने इसके लिए सम्बन्धित अधिकारियों के कार्यों की सराहना भी की।

आगामी विधान सभा चुनाव का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने भरोसा जताया कि चुनाव निष्पक्ष होंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता के हित में यह उचित नहीं है कि विधान सभा के चुनाव के आधार पर प्रदेश के विकास एवं कल्याण की योजनाओं को ठप कर दिया जाए। उन्होंने कहा कि निर्वाचन आयोग भी यह चाहता है कि चालू परियोजनाएं प्रभावित न हों। इसलिए जनता के लिए पहले से संचालित योजनाओं को पूरी गति से चलाने के लिए अधिकारी काम करते रहें।

इससे पूर्व प्रशासनिक अधिकारियों को आई0ए0एस0 वीक के आयोजन के लिए बधाई देते हुए श्री यादव ने कहा कि उनकी सरकार लगातार विभिन्न संवर्गों के कार्मिकों का मनोबल ऊंचा बनाए रखने के लिए संवाद करती रही है। आई0ए0एस0 वीक जैसे आयोजनों को जरूरी बताते हुए उन्होंने कहा कि इससे दूर-दराज के जनपदों में तैनात कनिष्ठ अधिकारियों को एक फोरम पर मिलकर अपनी बात कहने का मौका मिलता है। मुख्यमंत्री ने भरोसा जताया कि भविष्य में भी अधिकारियों के साथ मिलकर उनकी सरकार जनता की खुशहाली, संतुलित विकास एवं कल्याण के लिए काम करती रहेगी।

इससे पूर्व, मुख्य सचिव श्री राहुल भटनागर ने वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों के सम्मेलन में मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने अधिकारियों के मनोबल को बनाए रखने के लिए काफी काम किया है। उन्होंने राज्य सरकार द्वारा प्रदेश कैडर के 1984 बैच तक के आई0ए0एस0 अधिकारियों को अपर मुख्य सचिव पदनाम दिए जाने पर मुख्यमंत्री के प्रति आभार व्यक्त किया।

ज्ञातव्य है कि विगत पांच वर्षों में 05 बार आई0ए0एस0 वीक का आयोजन सम्पन्न हुआ। इस वर्ष 02 बार आई0ए0एस0 वीक के आयोजन का अवसर मिला है।

सम्मेलन में उत्तर प्रदेश राज्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष श्री नवीन चन्द्र बाजपेयी, मुख्यमंत्री के मुख्य सलाहकार श्री आलोक रंजन, अध्यक्ष राजस्व परिषद श्री प्रवीर कुमार, कृषि उत्पादन आयुक्त श्री प्रदीप भटनागर, प्रमुख सचिव गृह श्री देबाशीष पण्डा, पुलिस महानिदेशक श्री जावीद अहमद सहित वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे।