Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने अलीगढ़ की श्रीमती रज़िया के परिजन को 05 लाख रु0 की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने जनपद अलीगढ़ की श्रीमती रज़िया पत्नी श्री अकबर हुसैन के निधन पर दुःख व्यक्त करते हुए उनके परिजन को ‘मुख्यमंत्री विवेकाधीन कोष’ से 05 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है। इस घटना को दुःखद बताते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता को अपनी ही धनराशि को प्राप्त करने के लिए इस प्रकार बैंकों एवं ए0टी0एम0 की लाइन में लगकर पैसा निकालने का प्रयास करना और उस पर भी सफल न हो पाना अत्यन्त कष्टप्रद है।

यह जानकारी देते हुए शासन के प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि नोट बंदी के बाद श्रीमती रज़िया अपने कारखाने से मजदूरी के रूप में प्राप्त 500-500 के 06 नोट बदलवाने के लिए अपने नज़दीकी बैंक में लगातार तीन दिन तक कोशिश करती रहीं, परन्तु वह नोट बदलने में सफल नहीं हो पायीं। इस पर आर्थिक रूप से कमजोर श्रीमती रज़िया ने दुःखी होकर अपने आप को आग लगा ली। गम्भीर रूप से जली श्रीमती रज़िया का जिला मलखान सिंह अस्पताल, जवाहर लाल नेहरू मेडिकल काॅलेज, अलीगढ़ के बाद सफदरजंग अस्पताल, नई दिल्ली में इलाज चला। नई दिल्ली में इलाज के दौरान 04 दिसम्बर को उनका निधन हो गया। मुख्यमंत्री ने उनके परिवार की खराब आर्थिक स्थिति को देखते हुए उनके परिजन को 05 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है।

मुख्यमंत्री ने प्रदेश में नोट बंदी के फलस्वरूप बैंकों एवं ए0टी0एम0 की कतार में नोट बदलवाने में लगे लोगों की मृत्यु को दुःखद बताते हुए आर्थिक रूप से कमजोर सभी मृतकों के परिजनों को परीक्षणोपरान्त 02-02 लाख रुपए की आर्थिक सहायता ‘मुख्यमंत्री विवेकाधीन कोष’ से देने की घोषणा की है।

Uttar Pradesh Chief Minister Mr. Akhilesh Yadav has expressed deep sorrow at the demise of Aligarh resident Mrs. Razia w/o Mr. Akbar Hussain and has announced financial assistance of Rs. 5 lakh to her family from the ‘Chief Ministers Discretionary Fund’.

Terming the incident as sad, the Chief Minister stated that it was extremely painful to note that people have to standin long queues outside bank branches, ATMs to withdraw their own money, and often to no success. Giving this information, a state government spokesman said that after demonetisation, Mrs. Razia, a daily wager tried to charge six notesof Rs. 500, now illegal tenders, thrice at a nearby bank.

A dejected Mrs. Razia then set herself on fire resulting in serious burn injuries. She was first treated at Malkhan Singh district hospital, Jawahar Lal Nehru Medical College, Aligarh and was later referred to Safdurjung hospital in New Delhi where she died on December 4.

Considering the poor financial condition of the family, the Chief Minister has announced a financial assistance of Rs. 5 lakh for her family. Mr. Yadav also observed that such deaths outside banks and ATMs were heart-rending and announced that families of such economically weak people who die under similar conditions, after scrutiny, would be extended a financial assistance of Rs. 2-2 lakh each from the ‘Chief Minister’s Discretionary Fund’.