Election Result

Election commission of India announces the election dates of five states

पांच राज्यों में चुनाव की तारीखों का एेलान, 11 दिसंबर को आएंगे नतीजे

चुनाव आयोग ने शनिवार को पांच राज्यों (मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, मिजोरम और तेलंगाना) में होने वाले विधानसभा चुनावों की तारीखों का एलान कर दिया है। बता दें कि मध्य प्रदेश में कुल 231 सीटों पर चुनाव होगा, जबकि राजस्थान में 200 सीटों पर, छत्तीसगढ़ में 91 सीटों पर, मिजोरम में 40 सीटों पर और तेलंगाना में कुल 119 सीटों पर विधानसभा चुनाव होने हैं। इन पांचों राज्यों में से तीन राज्यों मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में इस वक्त भाजपा की सरकार है। लिहाजा कांग्रेस के लिए इन राज्यों में चुनाव जीतना किसी चुनौती से कम नहीं होगा।

पांच राज्यों में चुनाव तारीखों का एलान

मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, मिजोरम में चुनाव
पांचों राज्यों में अब से चुनाव आचार संहिता लागू
छत्तीसगढ़ में पहले फेज में 12 नवंबर को चुनाव
छत्तीसगढ़ में दूसरे फेज में 20 नवंबर को चुनाव
मध्यप्रदेश और मिजोरम में 28 नवंबर को मतदान
राजस्थान और तेलंगाना में 7 दिसंबर को मतदान
11 दिसंबर को होगी मतगणना

वीवीपैट मशीनों का होगा इस्तेमाल

उम्मीदवार के लिए 28 लाख रुपये खर्च करने की सीमा

मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ सरकार का कार्यकाल जनवरी में खत्म हो रहा है। वहीं मिजोरम सरकार का कार्यकाल 15 दिसंबर को समाप्त होगा। चुनाव आयोग ने कहा कि 15 दिसंबर तक चुनावी प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। चुनाव के लिए वीवीपैट मशीनों का इस्तेमाल किया जाएगा, जबकि हर बूथ पर सुरक्षाबलों की तैनाती होगी। वहीं पांचों राज्यों में आचार संहिता लागू कर दी गई है।

चुनाव आयोग ने कहा कि उम्मीदवार अधिकतम 28 लाख रुपये ही खर्च कर सकेंगे। वोटिंग के लिए सबसे नयी मशीनों का इस्तेमाल किया जाएगा। वहीं मिजोरम में खर्च की सीमा 20 लाख तय की गई है। छत्तीसगढ़ नक्सल प्रभावित इलाकों में पहले चरण में ही चुनाव कराये जाएंगे। यहां पहले चरण के लिए 12 नवंबर को वोटिंग होगी। 2 नवंबर तक नामांकन दाखिल कर सकते हैं और 3 नवंबर तक नामांकन वापस ले सकते हैं।

दूसरे चरण की वोटिंग 20 नवंबर को होगी। वहीं मध्यप्रदेश और मिजोरम में 28 नवंबर को मतदान किया जाएगा। इन दोनों राज्यों में एक ही चरण में चुनाव संपन्न कर लिए जाएंगे। राजस्थान और तेलंगाना में मतदान 7 दिसंबर को होगा। पांचों राज्यों के चुनावी नतीजे 11 दिसंबर को घोषित किए जाएंगे।

वहीं चुनाव आयोग ने कर्नाटक की तीन विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनावों की तारीखों का भी एलान कर दिया है। यहां तीनों सीटों शिमोगा, बेल्लारी और मंड्या में तीन नवंबर को चुनाव होंगे।

ये सर्वे बता रहा मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में भाजपा गंवा रही सत्ता

चुनाव आयोग ने शनिवार को पांच राज्यों मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम में चुनाव तारीखों का एलान कर दिया। छत्तीसगढ़ में दो चरणों और बाकी चार राज्यों में एक ही चरण में मतदान होगा। चुनाव आयोग के इस एलान के साथ ही पांचों राज्यों में चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है। 2019 आम चुनाव के मद्देनजर ये चुनाव बेहद अहम है। तमाम सर्वे बता रहे हैं कि इस बार भाजपा को मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

एबीपी-सी वोटर का सर्वे

एबीपी-सी वोटर का सर्वे बता रहा है कि इन तीनों राज्यों में बीजेपी को सत्ता गंवानी पड़ सकती है। बात करें मध्यप्रदेश की तो सर्वे में शामिल लोगों में से अधिकतर भाजपा को दूसरा मौका नहीं देना चाहते हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सामने इस बार बड़ी चुनौती है और उनपर सरकार बचाने का दारोमदार है। राज्य में कई ऐसे मुद्दे हैं जो भाजपा के खिलाफ जाते दिख रहे हैं। इनमें सबसे बड़ा मुद्दा एससी-एसटी एक्ट का है।

सर्वे के मुताबिक कांग्रेस को कुल 230 सीटों में से 122 सीटें जबकि भाजपा को 108 सीटें मिलने का अनुमान है। भाजपा लगातार 15 साल से यहां सत्ता पर काबिज है। ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि भाजपा की क्या स्थिति रहती है।

मध्यप्रदेश – कुल सीटें 230
भाजपा- 108 सीटें
कांग्रेस – 122 सीटें

एबीपी-सी वोटर के सर्वे के मुताबिक छत्तीसगढ़ में भी भाजपा को झटका लगने जा रहा है। यहां कांग्रेस 15 साल बाद सत्ता में वापसी कर सकती है। राज्य में बसपा सुप्रीमो मायावती और कांग्रेस से अलग होकर अपनी पार्टी जनता कांग्रेस बना चुके कद्दावर नेता अजीत जोगी की पार्टी के साथ गठबंधन किया है। ऐसे में यहां सियासी जंग काफी दिलचस्प नजर आ रही है। सर्वे के मुताबिक यहां कुल 90 विधानसभा सीटों में भाजपा को 40, कांग्रेस को 47 और अन्य को 3 सीटें मिलने का अनुमान है।

छत्तीसगढ़- कुल 90 सीटें
भाजपा – 40 सीटें
कांग्रेस – 47 सीटें
अन्य – 3 सीटें

वोट शेयर
भाजपा- 38.6 फीसदी
कांग्रेस – 38.9 फीसदी

सर्वे कह रहा है कि राजस्थान में भी भाजपा अपनी सरकार गंवाने जा रही है। यहां कुल 200 सीटों में से भाजपा को 56, कांग्रेस को 142 और अन्य को 2 सीटें मिलने का अनुमान है। सीएम वसुंधरा राजे के सामने कांग्रेस को रोकना बड़ी चुनौती है। उनके खिलाफ सत्ता विरोधी रुझान कायम है और कांग्रेस लगातार हमले कर रही है। कांग्रेस ने कमान पूर्व सीएम अशोक गहलोत को सौंपी है। सचिन पायलट को भी चुनाव अभियान में जोड़ा गया है।

राजस्थान- कुल 200 सीटें
भाजपा – 56 सीटें
कांग्रेस – 142 सीटें
अन्य – 2 सीटें

वोट शेयर
भाजपा – 34 फीसदी
कांग्रेस – 50 फीसदी
अन्य – 16 फीसदी

बहरहाल, तीन राज्यों की ये चुनावी जंग बेहद दिलचस्प हो गई है। अगर परिणाम भी सर्वे जैसे ही आए तो भाजपा के 2019 अभियान को करारा झटका लगेगा। और अगर कांग्रेस की हार का सिलसिला जारी रहता है तो महागठबंधन की मुहिम कमजोर पड़ सकती है जिसमें कांग्रेस का रोल बेहद कमजोर रहेगा। ऐसे में इन तीन राज्यों के नतीजों पर सभी की नजरें रहेंगी। चुनाव आयोग ने बिगुल फूंक दिया है और अब विभिन्न दलों में जंग और तेज होने जा रही है।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *