Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail
भारत-पाक मैच लंदन में चैंपियंस ट्रॉफी 2017
भारत-पाक मैच लंदन में चैंपियंस ट्रॉफी 2017

भारत-पाक मैच लंदन में  चैंपियंस ट्रॉफी 2017

रोहित-धवन की जोड़ी ने की टीम इंडिया की पारी की शुरुआत

टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी टीम इंडिया के लिए रोहित शर्मा और शिखर धवन ने पारी की शुरुआत की है। साल 2013 में भारत की सफलता में इस जोड़ी का बहुत योगदान रहा था। इस बार भी दोनों से टीम इंडिया को बेहतरीन शुरुआत देने का दारोमदार है।

चैंपियंस ट्रॉफी 2017 में रविवार को भारत और पाकिस्तान के बीच महामुकाबला खेला जाएगा। बर्मिंघम के एजबेस्टन में खेले जाने वाले इस मेगा इवेंट में पाकिस्तान के कप्तान सरफराज अहमद ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया है। दोनों ही टीमों का यह इस टूर्नामेंट में पहला ही मैच ही और दोनों कप्तान जीत के साथ सफर शुरु करने की उम्मीद करेंगे। इस मैच के लिए दोनों ही टीमें भारी सुरक्षा के बीच मैदान पहुंच चुकी हैं। मैदान में पहुंचकर दोनों टीमों ने पिच का जायजा लिया।

इस मैच में बारिश भी खलल डाल सकती है, मगर भारत को पाकिस्तान की पेस ब्रिगेड से सावधान रहना होगा। टॉस के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा कि उन्हें पाकिस्तान के हर प्लान के बारे मालूम है। उन्हें पाकिस्तान के खिलाफ खेलने का अच्छा-खासा अनुभव है।

अंतिम एकादश

भारत: विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, शिखर धवन, युवराज सिंह, महेंद्र सिंह धोनी, केदार जाधव, रविंद्र जडेजा, हार्दिक पांड्या, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, उमेश यादव
पाकिस्तान: सरफराज अहमद (कप्तान), अजहर अली, अहमद शहजाद, बाबर आजम, शोएब मलिक, मोहम्मद हफीज, मोहम्मद आमिर, वहाब रियाज, शदाब खान, हसन अली, इमाद वसीम

भारत-पाक मैच में बारिश के बाद भी इस तरह आ सकता मैच का नतीजा!

भारत पाकिस्तान मैच से पहले बर्मिंघम में बारिश की संभावना जताई गई है। भारत पाकिस्तान के महामुकाबले में इंद्र देव खलल डाल सकते हैं। रिपोर्ट्स के अनुसार 4 से 7 बजे के बीच बारिश आने की 40 फीसदी संभावना जताई जा रही है। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच में भी बारिश ने बाधा डाली थी। जानिए चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के मैचों में बारिश आने पर क्या-क्या है प्रावधान:

इतवार के दिन इंग्लैंड में लोग छुट्टी पर होंगे। साथ ही क्रिकेट प्रेमी भी उम्मीद करेंगे की 4 जून को बादल भी छुट्टी मनाए और भारत-पाकिस्तान के हाई वोल्टेज मैच से पहले कोई बाधा नहीं डालें। मगर बारिश आई और मैच पूरा धुल गया, तो दुनिया भर के क्रिकेट प्रेमी इस बात से खासे निराश होंगे। भारत पाकिस्तान के बीच आखिरी वनडे साल 2015 के विश्व कप में खेला गया था।

अगर बारिश होती है और मैच में एक भी गेंद नहीं फेंकी जाए, तो दोनों टीमों के बीच अंक बांट दिया जाएगा। इसके अलावा अंक तब भी बांटा जाएगा, जब एक पारी पूरी हो जाए और दूसरी पारी में भी एक भी गेंद न डाली जाए। साथ ही इस मैच में डकवर्थ ल्यूइ नियम भी देखने को मिल सकता है। इससे टीम को संशोधित टोटल दिया जा सकता है।

बता दें कि लीग मैचों और सेमीफाइनल के लिए कोई भी रिजर्व दिन नहीं रखा गया है। रिजर्व डे केवल और केवल फाइनल के लिए रखा गया है। इंग्लैंड में कभी भी बारिश आ सकती है और इस वजह से फाइनल के लिए रिजर्व डे रखा गया है। लीग मैचों और सेमीफाइनल में नेट रन रेट महत्वपूर्व होगी। साल 2002 में बारिश के चलते चैंपियंस ट्रॉफी में भारत और श्रीलंका संयुक्त विजेता रहे थे।

यदि बारिश के बावजूद मैच का नतीजा निकाला जाना है, तो दोनों पारियों में कम से कम 20 ओवर का खेल होना जरूरी है। पिछली बार चैंपियंस ट्रॉफी का फाइनल भी 20 ओवर का खेला गया था। यदि पहली पारी में ज्यादा ओवर का खेल भी होता है, फिर भी दूसरी पारी में कम से कम 20 ओवर फेंके जाने जरूरी है, तभी मैच का नतीजा आ सकता है।

पाकिस्तान के ‘ब्रह्मास्त्र’ को फेल करेगी विराट कोहली की ‘तरकीब’

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और कोच अनिल कुंबले के बीच मनमुटाव की खबरों के बीच रोजाना एक नया ट्विस्ट सामने आ रहा है। मगर इस हाई ड्रामा के बीच भी टीम इंडिया आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी के लिए जमकर पसीना बहा रही हैं। टीम इंडिया का पहला मुकाबला चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान से 4 जून को होना है।

इस मैच से पहले टीम इंडिया तैयारी में कोई कोताही नहीं बरतना चाहती। इस मैच में टीम इंडिया को पाकिस्तान की पेस बैट्री से खासतौर पर बचकर रहना होगा। इसमें भारत के लिए सबसे बड़ा खतरा मोहम्मद आमिर साबित हो सकते हैं। उनसे निपटने के लिए टीम इंडिया ने खास खिलाड़ी को ‘तैयार’ किया है।

बाएं हाथ के इस पेसर से निपटने के लिए विराट कोहली ने स्पिनर रविंद्र जडेजा को पेसर बना दिया है। जडेजा नेट्स में टीम इंडिया को पेस बॉलिंग कर रहे हैं ताकि बल्लेबाज बाएं हाथ के पेसर को खेलने का अभ्यास कर सकें। भारतीय टीम में 5 तेज गेंदबाज हैं, मगर कोई भी बाएं हाथ से बॉलिंग नहीं करता, सभी दाएं हाथ के गेंदबाज हैं।

स्पॉट फिक्सिंग के बाद वापसी करने वाले मोहम्मद आमिर की गेंदबाजी आग उगलती है। पाकिस्तान बॉलिंग अटैक के अगुवा आमिर बाएं हाथ से पेस बॉलिंग करते हैं और अपने एंगल-स्विंग से बल्लेबाजों के लिए दिक्कतें खड़ी कर सकते हैं। पिछली बार एशिया कप में आमिर ने रोहित शर्मा, अजिंक्य रहाणे और सुरेश रैना का विकेट लेकर भारत पर काफी दबाव बनाया था।

इस बड़े मुकाबले के लिए टीम इंडिया पूरी जी-जान से जुड़ी हुई हैं। यह पहली बार नहीं है कि कोहली ने अभ्यास के लिए कोई नायाब तरीका निकाला हो। इससे पहले कोहली ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अभ्यास के लिए अनिकेत चौधरी को बुलाया था। वैसे, उम्मीद करते हैं जडेजा पाकिस्तान के खिलाफ भी अपनी रफ्तार दिखाएं।

भारत-पाक महा-मुकाबला: आंकड़े बताते हैं किसकी होगी जीत!

भारत पाकिस्तान के बीच रविवार को खेले जाने वाले महामुकाबले पर दुनियाभर के क्रिकेट प्रशंसकों की नजरें लगी हुई हैं। दोनों देशों के बीच पिछले कुछ समय से राजनीतिक हालात भी अच्छे नहीं हैं। सीमा पर दोनों देशों के बीच तनाव बना हुआ है। ऐसे में आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में होने वाला मुकाबला दोनों देशों के लिए नाक का सवाल है। भले ही दोनों टीमों के खिलाड़ी और कप्तान यह बात कह रहे हों कि यह मैच भी दूसरे मैच जैसा ही है। उनपर या उनकी टीम पर इस मैच को लेकर दबाव नहीं हो तो यह बात हकीकत से मुंह फेरने जैसी है।

अगर दोनों देशों के बीच हुए आंकड़ों पर नजर डालें तो अधिकांश का परिणाम पाकिस्तान के पक्ष में है लेकिन पिछले एक दशक की कहानी कुछ अलग है। दोनों देशों के बीच बटवारा होने के बाद से अबतक कांटे की टक्कर देखने को मिली है। दोनों देशों के बीच अबतक कुल 127 वनडे मैच खेले गए हैं जिनमें से 72 में पाकिस्तान और 51 में भारत विजयी रहा है जबकि 4 मैचों का कोई परिणाम नहीं निकला। साल 2000 के बाद दोनों देशों के बीच 49 एकदिवसीय मैच खेले गए। जिनमें से 24 में भारत और 25 में पाकिस्तान विजयी रहा है। 2010 के बाद पिछले सात साल में दोनों के बीच केवल 9 मुकाबले हुए हैं जिसमें से 6 में भारत और 3 में पाकिस्तान विजयी रहा है।

कुल मिलाकर देखा जाए तो अधिकांश समय में पाकिस्तान का पलड़ा भारत पर भारी रहा है लेकिन बड़े मौकों पर पाकिस्तान को भारत के सामने मुंह की खानी पड़ी है। विश्वकप में पाकिस्तान आज तक भारत के सामने जीत हासिल नहीं कर सका। चैंपियंस ट्रॉफी ही एकमात्र वैश्विक मंच है जहां पाकिस्तान भारत को मात देने में सफल रहा है। चैंपियंस ट्रॉफी में दोनों देशों के बीच तीन मुकाबले हुए हैं जिनमें से 2 में पाकिस्तान और 1 में भारत को जीत हासिल हुई

2004 चैंपियंस ट्रॉफी

1998 में चैंपियंस ट्रॉफी का आगाज होने के बाद दोनों टीमों के बीच पहली भिड़ंत साल 2004 में हुई। इंग्लैंड की मेजबानी में पहली बार आयोजित चैंपियंस ट्रॉफी में बर्मिंघंम के मैदान पर ही हुआ था। लो स्कोरिंग मैच में पाकिस्तान ने भारत को 3 विकेट से मात दी थी। भारत, पाकिस्तान और कीनिया को एक ग्रुप में जगह मिली थी। दोनों ही देश कीनिया के खिलाफ अपना-अपना मैच जीत चुके थे। अगले दौर में पहुंचने के लिए दोनों को यह मैच करो या मरो वाला हो गया था। पहले बल्लेबाजी करने उतरी टीम इंडिया ने 73 रन पर 5 विकेट गंवा दिए थे। राहुल द्रविड़ के 67 और अजीत आगरकर की 47 रन की पारियों की बदौलत भारत 200 रन के सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचने में सफल हुआ था।

जीत के लिए 201 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी पाकिस्तान की शुरुआत भी बेहद खराब रही। 27 रन के स्कोर पर पाकिस्तान ने प्वाइंट पर तीन विकेट गंवा दिए थे। इरफान पठान ने ये तीनों विकेट झटके थे। इसके बाद यूसुफ योहाना के 81 और इंजमाम उल हक के 41 रन की पारी की बदौलत मैच वापस पाकिस्तान की तरफ पटल गया। दोनों के बीच चौथे विकेट के लिए 75 रन की साझेदारी हुई। इसके बाद आखिर में शाहिद अफरीदी ने 12 गेंद में 25 रन की पारी खेलकर मैच को 4 गेंद शेष रहते लक्ष्य हासिल कर लिया।

2009 चैंपियंस ट्रॉफी

साल 2009 में दक्षिण अफ्रीका के सेंचुरियन पार्क में दोनों देशों के बीच भिड़ंत हुई थी। इस मुकाबले में शोएब मलिक(128) और मोहम्मद यूसुफ(87) की शानदार बल्लेबाजी की बदौलत पाकिस्तान ने भारत को 54 रन से मात दी थी। पाकिस्तान की इस जोड़ी ने चौथे विकेट के लिए 206 रन जोड़ते हुए टीम को निर्धारित 50 ओवर में 302 रन तक पहुंचाया। इतने बड़े लक्ष्य के सामने भारतीय बल्लेबाजों की एक न चली। गौतम गंभीर (57) और राहुल द्रविड़ (76) की जोड़ी ने पाकिस्तानी गेंदबाजों की धुनाई कर दी। लेकिन गौतम गंभीर के रन आउट होते ही मैच का पासा पूरी तरह पलट गया। सुरेश रैना ने अंतिम ओवरों में 46 रन की पारी खेलकर जीत की कुछ आस दिलाई लेकिन उनके सईद अजमल का शिकार बनते ही एक बार फिर टीम इंडिया बैकफुट पर आ गई। भारतीय टीम 45 ओवर में 248 के स्कोर पर ढह गई।

2013 चैंपियंस ट्रॉफी

साल 2013 में टीम इंडिया पहली बार चैंपियंस ट्रॉफी में पाकिस्तान को हराने में सफल हुई। एजबेस्टन में खेले गए मुकाबले में बारिश ने खलल डाला था। धोनी की टीम ने पाकिस्तान को डकवर्थ लुइस नियम के अनुसार 8 विकेट से मात दी थी। भारतीय गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 39.4 ओवर में 165 रन पर ढेर कर दिया। भुवनेश्वर कुमार, ईशांत शर्मा, रविचंद्रन अश्विन और रविंद्र जडेजा ने 2-2 विकेट हासिल किए। जबकि दो खिलाड़ी रन आउट हुए थे। लक्ष्य का पीछा करते हुए शानदार शुरुआत की। शिखर धवन ने 48 रन की पारी खेली। इसके बाद बारिश ने मैच में दो बार बाधा डाली। बारिश के बाद भारत को 20 ओवर में 102 रन बनाने का लक्ष्य मिला। जिसे कोहली (22) और दिनेश कार्तिक (11) ने हासिल कर लिया।