सीएम योगी

Lucknow Vivek Tiwari murder case eyewitness Sana speak about the incident

उत्तर प्रदेश के योगी राज में लखनऊ पुलिस ने एपल के मैनेजर विवेक तिवारी की जान ले ली

एपल के सेल्स मैनेजर विवेक तिवारी की पत्नी कल्पना तिवारी ने कहा है कि, गोली मारकर हत्या करने के बाद लखनऊ पुलिस पति को चरित्रहीन साबित करने में लगी है। कल्पना ने सवाल उठाया कि गाड़ी न रोकने पर गोली चलाने का अधिकार पुलिस को किसने दिया। उन्होंने योगी सरकार से न्याय की मांग की है।

पुलिस का आरोप है कि विवेक और उसकी महिला मित्र आपत्तिजनक हालत में थे, जिसका विरोध करने पर विवेक ने गाड़ी पुलिस पर चढ़ा दी थी। इस पर सिपाही प्रशांत चौधरी ने विवेक को गोली मार दी, जो सीधे उसकी ठुड्डी से आरपार होकर सिर में नीचे की तरफ जा धंसी। विवेक तिवारी की पत्नी कल्पना ने बताया कि, पति ये कहकर घर से निकले थे कि आज नए फोन की लॉन्चिंग है तो देर हो जाएगी। रात में डेढ़ बजे पति से बात भी हुई थी तो उन्होंने बताया कि सना को घर छोड़ने के बाद कुछ ही देर में आ रहे हैं।

एपल के मैनेजर की पत्नी बोली- अपना जुर्म छिपाने के लिए पति को चरित्रहीन साबित करने में जुटी पुलिस

कल्पना ने बताया कि रात करीब दो बजे तक वह नहीं पहुंचे तो फिर वह फोन करने लगीं, लेकिन कई बार फोन करने के बावजूद कॉल रिसीव नहीं हुई। रात तीन बजे के करीब एक व्यक्ति ने फोन रिसीव कर कहा कि आपके पति और उनके साथ मौजूद महिला को हल्की चोटें आई हैं। दोनों की मरहम पट्टी लोहिया में हो रही है।

कल्पना तिवारी के अनुसार जब वह लोहिया अस्पताल पहुंची तो काफी देर तक पुलिस और डॉक्टर टालमटोल करते रहे। पति से मिलने भी नहीं दिया। गोली लगने की भी बात नहीं बताई। काफी देर बाद डॉक्टर से जबरदस्ती करने पर उन्होंने कहा कि एक्सीडेंट के कारण विवेक का काफी खून बह गया था, जिसके चलते उन्हें बचाया नहीं जा सका।

उन्होंने बताया कि, जब वह घटनास्थल पर पहुंची तो गाड़ी का हाल देख उन्हें पता लगा कि विवेक को गोली लगी थी। कल्पना तिवारी ने मुख्यमंत्री योगी से सवाल किया कि आखिर पुलिस वालों को गोली चलाने का अधिकार किसने दिया। विवेक ने गाड़ी न रोककर ऐसा कौन सा गुनाह कर दिया था।

कल्पना ने कहा कि पुलिस सिर्फ अपनी गलती छिपाने के लिए विवेक के चरित्र पर अंगुली उठा रही है। उन्होंने मांग कि है की दोषी पुलिस वालों पर सरकार सख्त से सख्त कार्रवाई करे।

विवेक तिवारी हत्याकांड की एकमात्र चश्मदीद ने बताई पुलिसिया बर्बरता की दास्तां, यहां सुनें

लखनऊ पुलिस की मनमानी और बर्बरता ने शनिवार तड़के एपल के सेल्स मैनेजर विवेक की जान ले ली। पुलिसकर्मियों के इशारे पर मैनेजर ने गाड़ी नहीं रोकी तो सिपाही ने उस पर फायरिंग कर दी। गोली सीधे युवक के सिर में जा लगी, जिससे उसकी मौत हो गई। कार में मौजूद युवक की महिला सहयोगी की तहरीर पर पुलिस ने आरोपी सिपाहियों के खिलाफ केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है। इसके बाद उन्हें बर्खास्त भी कर दिया गया है। विवेक हत्याकांड की एकमात्र चश्मदीद सना को पुलिस ने नजरबंद कर दिया है। यहां तक कि घटना के करीब एक से डेढ़ घंटे के भीतर ही पुलिस ने उससे तहरीर भी लिखवा ली थी।

इससे कुछ ऐसे सवाल सामने आ रहे हैं जो पुलिस की कार्यशैली पर सवालिया निशान लगाते हैं। केस दर्ज करने में हमेशा लापरवाही करने वाली पुलिस ने आखिर विवेक के किसी परिजन का इंतजार क्यों नहीं किया? इसके साथ ही घटना के एक घंटे के भीतर ही सना से ही तहरीर क्यों लिखवा ली?

नजरबंद होने से पहले सना से जब बात की गई तो उसने पुलिसिया जुल्म की सारी कहानी सुबकते हुए बता दी थी। लेकिन इस बात को लेकर भी सवाल खड़े हो रहे हैं कि पुलिस के कहने पर युवक ने गाड़ी को क्यों नहीं रोका। घटनास्थल से जारी तस्वीरों में मृतक की कार में शराब की बोतल भी नजर आ रही है।

इस संबंध में सना ने बताया कि फोन लॉन्चिग में देर होने के चलते उसके बॉस विवेक तिवारी उसे घर छोड़ने जा रहे थे। गोमतीनगर विस्तार में सीएमएस स्कूल के पास सामने से दो पुलिस वाले आ गए।

दोनों हमें जबरदस्ती रोकने लगे, लेकिन मैं अकेली थी तो किसी तरह की बात न हो इसलिए सर ने गाड़ी को नहीं रोका, लेकिन हम जैसे ही आगे बढ़े पुलिस वाले ने गोली मार दी।

सना ने बताया कि पुलिस वालों ने सामने गाड़ी लगाई थी, जब विवेक सर साइड से गाड़ी निकालने लगे तो हमारी गाड़ी का पहिया थोड़ा सा बाइक पर चढ़ गया, उस समय तक पुलिसवाले बाइक से उतर चुके थे। उन्होंने बताया कि पुलिसवालों को बिल्कुल भी चोट नहीं लगी थी।

इसके बाद एक पुलिस वाले ने विवेक सर पर तुरंत फायरिंग कर दी, जबकि दूसरे के हाथ में लाठी थी। सना का कहना था कि जब तक मैं कुछ समझ पाती गाड़ी जाकर आगे दीवार से टकराकर रुक गई। इसके बाद देखा तो विवेक के सिर से खून बह रहा था। कुछ समय बाद पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और विवेक को अस्पताल पहुंचाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

विवेक तिवारी हत्याकांड पर घिरी योगी सरकार, राज बब्बर बोले- सीएम ने वर्दी में गुंडों की फौज पाल रखी है

विवेक हत्याकांड पर अब विपक्ष ने योगी सरकार को घेरना शुरू कर दिया है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर ने ट्वीट कर कहा है कि मुख्यमंत्री को शर्म आनी चाहिए। लखनऊ में एक आम शहरी का एनकाउंटर कर दिया गया। मुख्यमंत्री ने पुलिस की वर्दी में गुंडों की फौज पाल रखी है।

उन्होंने कहा है कि देश के गृहमंत्री के चुनाव क्षेत्र में भी आम आदमी सुरक्षित नहीं है। प्रवचनकर्ता प्रधानमंत्री विवेक तिवारी के परिवार को क्या जवाब देंगे ?

विवेक तिवारी मर्डर केस में योगी सरकार के मंत्री ने दिया विवादित बयान

यूपी की योगी आदित्यनाथ की सरकार में सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह ने लखनऊ में पुलिस की गोली से मारे गए एप्पल के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी को लेकर विवादित बयान दिया है।

शनिवार को वाराणसी के सर्किट हाउस में पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए धर्मपाल सिंह ने कहा कि योगी सरकार में गोली केवल अपराधियों को लगती है। अपराधी वही मारा जा रहा है, गोली उसी को लग रही है जो वास्तव में क्रिमिनल है।

उन्होंने कहा कि जो समाजवादी पार्टी की सरकार में गुंडाराज, माफियाराज था उन्हीं चीजों को हम ठीक कर रहे हैं। बाकी सब ठीक ठाक है। अपराधियों से कोई समझौता नहीं करेंगे। न्याय सभी को मिलेगा तुष्टीकरण किसी का नहीं होगा।

जो गलती करेगा उसे दंड मिलेगा किसी भी हाल में किसी को बख्शा नहीं जाएगा। यूपी में गलत एनकाउंटर नहीं हो रहे हैं। तिकड़बाजों की करतूत से जनता वाकिफ है। सपा के लोग तिकड़म करते आ रहे हैं। इस बार भी उनकी ओर से तिकड़म किया जा रहा है।

मंत्री ने कहा कि देश व राज्य के साथ साथ काशी का सौभाग्य है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां के सांसद हैं। साथ ही कहा कि राजा का राज जहां खत्म होता है वहां से योगी राज शुरू होता है।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *