सांसद धर्मेंद्र यादव

Meeting of joint parliamentary committee on rafael madan: MP Dharmendra Yadav

राफेल मद्दे पर संयुक्त संसदीय कमेटी की हो बैठक : सांसद धर्मेंद्र यादव

सांसद धर्मेंद्र यादव ने संसद के शीतकालीन सत्र में राफेल डील के मुद्दे पर बोलते हुए कहा कि कारगिल युद्ध के बाद 2002 से भारतीय वायुसेना फाइटर विमानों की मांग करती रही है। 2016 में जिस प्रकार यह समझौता हुआ और जिस तरह से देश के सामने सवाल खडे़ हुए वह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण बात है।

मुलायम सिंह यादव जब देश के रक्षामंत्री थे तब 30 सुखोई विमान वायु सेना के लिए खरीदे गए जो अब तक का सबसे मजबूत विमान है तथा भारतीय सेना की शान है।जब सुखोई 30 का समझौता हुआ उस समय सदन के अंदर नेता प्रतिपक्ष स्व.अटल बिहारी वाजपेई ने तत्कालीन रक्षामंत्री मुलायम सिंह यादव को बधाई दी थी। उन्होनें आगे कहा कि वर्तमान सरकार के लोग पारदर्शी व्यवस्था की बात कर रहे थे।

उन्होंने 526 करोड रुपए के विमान को 1600 करोड़ रुपए में खरीदा है। इसमें कोई शक नहीं है कि राफेल विमान बहुत अच्छा विमान है तथा भारतीय वायु सेना को इसकी अत्यंत आवश्यकता है लेकिन जिस प्रकार एचएएल जैसी सार्वजनिक संस्था के साथ अनुबंध न करके निजी कंपनियों के साथ अनुबंध किया है।

इसमें जितनी शंकाएं उत्पन्न हुई हैं उनका समाधान होना आवश्यक है। देश के जनमानस के सामने राफेल डील के समझौता कहीं न कहीं शंका के दायरे में रहेगा। केन्द्र सरकार द्वारा सार्वजनिक रूप से उजागर करना अत्यंत आवश्यक है।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *