ISRO में ग्रेजुएट्स के लिए वैकेंसी

Son of farmer become scientist in ISRO

ISRO में ग्रेजुएट्स के लिए वैकेंसी
ISRO में ग्रेजुएट्स के लिए वैकेंसी

किसान का बेटा इसरो में बना वैज्ञानिक, आपको भी बहुत कुछ सिखा सकता है ‘सफलता का ये किस्सा’

इरादे बुलंद हों तो कोई बाधा सफलता को रोक नहीं सकती है। एक किसान के बेटे ने वैज्ञानिक बनकर इस बात को सच कर दिखाया। बेटे की सफलता से परिजनों के साथ कस्बे के लोगों में खुशी की लहर है। सफलता का ये किस्सा यूपी के फतेहपुर जिले से एक किसान के बेटे का है।

चांदपुर निवासी किसान रामबहादुर तोमर के बेटे जनार्दन सिंह इंटर की पढ़ाई इंटर कालेज पाराधनई में की। इसके बाद कानपुर से बीटेक किया। बीटेक की पढ़ाई के दौरान जनार्दन का आईआईटी गुवाहाटी में सेलेक्शन हो गया। यहां से आईआईटी करने के बाद इसरो में वैज्ञानिक के लिए चयन हो गया।

पिता ने बताया कि बीटेक के दौरान पैसे की व्यवस्था न हो पाने पर एक बीघा खेत भी बेचने पड़े थे। बेटे को सफलता से वह बहुत खुश हैं। बताया कि दो बेटे हैं। पिता ने बताया कि देश भर में जनार्दन समेत सात लोगों का चयन हुआ है। प्रदेश में वह प्रथम है।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *