Jobs

Teaching and non teaching staff will be appointed in five new medical colleges of Uttar Pradesh

पांच नए सरकारी मेडिकल कॉलेजों में आने वाली है वैकेंसी, टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ की होगी भर्ती

प्रदेश को अगले साल पांच नए सरकारी मेडिकल कालेज और मिल जाएंगे। इनमें जल्द ही टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ की भर्ती प्रक्रिया भी शुरू की जाएगी। इसके बाद नवंबर में मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआई) बहराइच, फैजाबाद, फिरोजाबाद, बस्ती और शाहजहांपुर में मेडिकल कॉलेजों को चलाने की अनुमति दे सकती है। यह जानकारी चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में दी गई। मुख्य सचिव डॉ. अनूप चंद्र पांडेय भी मौजूद थे।

वित्त विभाग के अफसरों के साथ हुई इस बैठक में बताया गया कि इन मेडिकल कालेजों और पुराने मेडिकल कॉलेजों की सुपर स्पेशयलिटी ब्लॉक में आई बाधाओं को दूर कर लिया गया है। पांचों मेडिकल कॉलेज में भर्ती प्रक्रिया शुरू करने का निर्णय भी लिया गया।

तय किया गया कि नवंबर में एमसीआई की टीम के दौरे से पहले इन मेडिकल कॉलेजों के टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ के पद सृजित कर प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। इन मेडिकल कॉलेजों में अगले सत्र से एमबीबीएस की पढ़ाई शुरू की जाएगी। ऐसे में एमसीआई के सारे मानक इसी साल पूरे कर लिए जाएं।

बैठक में तय किया गया कि प्रधानमंत्री स्वास्थ्य रक्षा योजना के तहत झांसी, मेरठ, इलाहाबाद और गोरखपुर सरीखे पुराने मेडिकल कॉलेजों के सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक के सभी आठ विभागों में आईसीयू बेड को इसी साल दिसंबर से शुरू किया जाना है। यहां भी टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ की भर्ती शुरू की जाएगी।

गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में अगले साल फरवरी तक 500 बेड का शिशु अस्पताल शुरू होना है। इस बैठक के बाद पांच मेडिकल कॉलेज, चार मेडिकल कॉलेजों में सुपरस्पेशियलिटी ब्लॉक और गोरखपुर में शिशु अस्पताल के शुरू होने का रास्ता साफ हो गया। बैठक में चिकित्सा शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव डॉ. रजनीश दुबे भी मौजूद रहे।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *