Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने राज्य कृषि उत्पादन मण्डी परिषद की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं को शिलान्यास/लोकार्पण किया
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने राज्य कृषि उत्पादन मण्डी परिषद की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं को शिलान्यास/लोकार्पण किया

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने राज्य कृषि उत्पादन मण्डी परिषद की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं को शिलान्यास/लोकार्पण किया

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी सरकार प्रदेश के संतुलित विकास में विश्वास रखती है। उन्होंने 22 दिसम्बर, 2016 को समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास किए जाने की जानकारी देते हुए कहा कि किसानों की समृद्धि के लिए आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे तथा समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के दोनों तरफ मण्डी स्थलों की स्थापना की जाएगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने अपने पूरे कार्यकाल में किसानों सहित समाज के सभी वर्गों के विकास और कल्याण के लिए कार्य किया है।

मुख्यमंत्री ने यह विचार आज यहां राज्य कृषि उत्पादन मण्डी परिषद की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के शिलान्यास/लोकार्पण एवं आधुनिकतम किसान बाजार, लखनऊ के उद्घाटन कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा पूरे प्रदेश में जगह-जगह पर किसान बाजारों, मण्डियों इत्यादि की स्थापना इस उद्देश्य से की जा रही है कि किसानों को अपनी उपज बेचने में आसानी हो, उन्हें उनकी उपज का वाजिब और लाभकारी मूल्य मिले, ताकि और उनमंे खुशहाली आए।

कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने 1932.36 करोड़ रुपए के 3180 निर्माण कार्यों का लोकार्पण करने के साथ-साथ 1103.10 करोड़ रुपए के 2022 निर्माण कार्यों का शिलान्यास भी किया। इस प्रकार कुल 3035.46 करोड़ रुपए लागत के निर्माण कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास मुख्यमंत्री द्वारा किया गया। उन्होंने जिन परियोजनाओं का लोकार्पण किया, उनमंे जनेश्वर मिश्र योजना के तहत 2311 गांवों के 924.40 करोड़ रुपए लागत के विकास कार्य, 164.79 करोड़ रुपए लागत के 584 एग्रीकल्चरल मार्केटिंग हब तथा लखनऊ, सैफई, झांसी, कन्नौज तथा कासगंज में निर्मित किसान बाजारों का भी लोकार्पण किया।

श्री यादव ने ललितपुर, जालौन, हमीरपुर, बांदा, महोबा तथा झांसी में निर्मित कराए गए विशिष्ट मण्डी स्थलांे का भी लोकार्पण किया। उन्होंने बुन्देलखण्ड के 79 ग्रामीण अवस्थापना केन्द्रों के साथ-साथ लखनऊ शहर के ए0पी0 सेन मार्ग पर नवनिर्मित बहुउद्ेश्यीय भवन का भी लोकार्पण किया। उन्होंने नवीन मण्डी स्थल पयागपुर बहराइच, उप मण्डी स्थल नवाबगंज बरेली, मण्डी स्थल मोहनलालगंज लखनऊ, उप मण्डी स्थल वृंदावन मथुरा, उप मण्डी स्थल जैथरा एटा, विभिन्न बसावटों के 183 नवीन सम्पर्क मार्गों के साथ-साथ विल्सी-बदायू स्थित अतिथिगृह का भी लोकार्पण किया। उन्होंने साहिबाबाद गाजियाबाद के नवीन मण्डी स्थल पर 199 किलोवाॅट के हाईब्रिड सोलर पावर प्लान्ट की स्थापना कार्य का भी लोकार्पण किया।

मुख्यमंत्री ने जनेश्वर मिश्र योजना के तहत 2,000 गांवों के विकास कार्यों, विशिष्ट आम मण्डी मलिहाबाद लखनऊ, किसान बाजार हरदोई तथा बहराइच, हापुड़ मण्डी के आधुनिकीकरण, आलू उत्पादन एवं विपणन को बढ़ावा देने के लिए ठठिया कन्नौज में विशिष्ट मण्डी निर्माण कार्यों का शिलान्यास भी किया। उन्होंने लहसुन एवं सब्जी के उत्पादन एवं विपणन को बढ़ावा देने के लिए मैनपुरी में विशिष्ट मण्डी निर्माण का भी शिलान्यास किया। उन्होंने टूण्डला फिरोजाबाद में निर्मित किए जा रहे अतिथिगृह मण्डी परिसर का शिलान्यास किया। जिन अन्य परियोजनाओं का शिलान्यास कार्यक्रम के दौरान किया गया, उनमें 12 मण्डी स्थलों पर सोलर पावर प्लाण्ट की स्थापना, आगरा में अतिरिक्त मण्डी स्थल बिसवां सीतापुर में नवीन मण्डी स्थल तथा झांसी में तिल प्रसंस्करण इकाई की स्थापना शामिल हैं।

श्री यादव ने कहा कि प्रदेश के विकास में किसानों का बहुत बड़ा योगदान है। इसलिए राज्य सरकार उनके विकास और उत्थान के लिए लगातार काम करती है। राज्य सरकार ने ऐसे फैसले लिए हैं, जिनसे किसानों को फायदा हो। किसानों की सुविधा के लिए जहां एक ओर निःशुल्क सिंचाई की व्यवस्था की गई है, वहीं दूसरी ओर कृषक दुर्घटना बीमा के अन्तर्गत बीमा राशि बढ़ा दी गई है। साथ ही, खाद-बीज इत्यादि की प्रचुर मात्रा में उपलब्धता सुनिश्चित की गई है, जिससे किसानों को कोई दिक्कत न हो।

मुख्यमंत्री ने देश के सबसे लम्बे आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे के दोनों तरफ मण्डियों की स्थापना का जिक्र करते हुए कहा कि इस सुविधा का उपयोग करते हुए अब किसान अपनी उपज तेज गति से बाजारों में पहुंचा सकेंगे। इस एक्सप्रेस-वे को बलिया तक समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के रूप में ले जाने का निर्णय लिया जा चुका है। इसके निर्मित हो जाने के बाद इसके दोनों तरफ भी मण्डी स्थलों की स्थापना की जाएगी। इससे उत्तर प्रदेश के किसानों को राज्य के एक छोर से दूसरे छोर तक अपनी उपज ले जाने में आसानी होगी। साथ ही, एक्सप्रेस-वे के दोनों तरफ मौजूद मण्डियों में भी अपनी फसलों को बेचने की सुविधा मौजूद होगी। इस प्रकार किसानों की आर्थिक समृद्धि होगी, उनका जीवन स्तर सुधरेगा और उनमें खुशहाली आएगी।

श्री यादव ने कहा कि राज्य सरकार किसानों की आर्थिक उन्नति के लिए कृषि एवं कृषि आधारित गतिविधियों को बढ़ावा दे रही है। खाद्य प्रसंस्करण आधारित गतिविधियों को भी राज्य में बढ़ावा दिया जा रहा है। प्रदेश में कामधेनु योजना के माध्यम से दुग्ध उत्पादन को प्रोत्साहित किया जा रहा है। साथ ही, अमूल और मदर डेयरी जैसी संस्थाओं द्वारा प्रदेश में अपने दुग्ध संयंत्र स्थापित किए जा रहे हैं, जिससे प्रदेशवासियों को प्रचुर मात्रा में दुग्ध आपूर्ति सुनिश्चित की जा सकेगी। उन्होंने कहा कि मण्डी परिषद राज्य के किसानों को और बेहतर सेवाएं किस प्रकार से दे इस पर विचार किया जाएगा और उसे और अधिक किसानोन्मुखी बनाया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा लागू जनेश्वर मिश्र ग्राम योजना का लाभ बड़े पैमाने पर किसानों को मिल रहा है। इस योजना के अन्तर्गत चयनित गांवों में अवस्थापना सुविधाओं का विकास सुनिश्चित किया जा रहा है। राज्य सरकार द्वारा स्थापित कराए गए किसान बाजारों में किसान अपनी उपज सीधे उपभोक्ताओं को बेच सकते हैं। भविष्य में राज्य सरकार तहसील तथा ब्लाॅक स्तर पर ऐसे किसान बाजारों की स्थापना सुनिश्चित करेगी।

श्री यादव ने कहा कि जहां एक ओर राज्य सरकार किसानों की मदद कर रही है, वहीं दूसरी ओर किसान भी राज्य सरकार की विकास योजनाओं में सहयोग दे रहे हैं। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे के लिए किसानों ने खुशी-खुशी अपनी जमीनें दीं। राज्य सरकार ने भूमि देने वाले किसानों को सर्किल रेट का चार गुना मुआवजा दिलवाया। समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के लिए जमीन अधिग्रहण में भी यही प्रक्रिया अपनायी जाएगी। किसानों की खुशहाली के लिए राज्य सरकार प्रदेश मंे कृषि आधारित उद्योगों की स्थापना कर रही है। उन्होंने कहा कि हाल ही में बाबा रामदेव ने यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक क्षेत्र में 400 एकड़ भूमि में अपनी इकाई की स्थापना की कार्यवाही शुरू की है। ऐसी ईकाइयों की स्थापना से किसानों में समृद्धि आएगी।

नोटबन्दी के फैसले पर बोलते हुए श्री यादव ने कहा कि यह जल्दबाजी मंे लिया गया निर्णय है। इसे लागू करने से पहले केन्द्र ने कोई तैयारी नहीं की, जिसके कारण गरीबों और किसानों को सबसे ज्यादा दिक्कत हो रही है। नोटबन्दी के फैसले का असर फसलों की बुआई पर भी पड़ा है, जिससे किसानों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। इस फैसले के कारण देश में विकास की गति धीमी पड़ने की आशंका है। समाजवादी लोग भ्रष्टाचार और टैक्स चोरी के सख्त खिलाफ हैं। उन्होंने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक क्या होती है किसी को नहीं मालूम।

प्रदेश की पिछली सरकार का जिक्र करते हुए श्री यादव ने कहा कि उस सरकार ने विकास पर कोई ध्यान नहीं दिया, जिसके चलते प्रदेश इस दौड़ में बहुत पीछे रह गया। पिछली सरकार के कार्यकाल में सिर्फ पार्कों और पत्थर के स्मारकों जैसे कार्यों पर ही ध्यान दिया गया। राज्य की वर्तमान सरकार ने अनेक विकास कार्य करवाए हैं, जिनमें से काफी कार्यों का लोकार्पण भी किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि कई कार्य तेजी से पूरे होने की दिशा मंे अग्रसर हैं।

इससे पूर्व कार्यक्रम स्थल पहुंचने के उपरान्त उन्होंने समारोह का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलित कर किया। कार्यक्रम के दौरान उन्होंने पुरस्कार भी वितरित किए।

इस अवसर पर राज्य सरकार के मंत्रिगण श्री रामगोविन्द चैधरी, श्री राजेन्द्र चैधरी, श्री अभिषेक मिश्र, मुख्यमंत्री के मुख्य सलाहकार श्री आलोक रंजन सहित मण्डी परिषद के अध्यक्ष श्री काशीनाथ यादव, कृषि उत्पादन आयुक्त श्री प्रदीप भटनागर, निदेशक मण्डी परिषद श्री राजशेखर सहित मण्डी परिषद के अन्य वरिष्ठ अधिकारी तथा बड़ी संख्या में किसान व गणमान्य नागरिक मौजूद थे।