Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail
गुरुग्राम के रियान इंटरनेशनल स्कूल में प्रद्युमन की हत्या
गुरुग्राम के रियान इंटरनेशनल स्कूल में प्रद्युमन की हत्या

प्रद्युम्न हत्याकांडः सीबीआई आरोपी छात्र को स्कूल ले जाकर करेगी पूछताछ

प्रद्युमन हत्याकांड मामले में मंगलवार शाम को सीबीआई द्वारा गिरफ्तार किए गए भोंडसी स्थित रायन इंटरनेशनल स्कूल के 11वीं कक्षा के छात्र को बुधवार को जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड में पेश किया गया। यहां से सीबीआई ने उसे तीन दिन के रिमांड पर लिया है। आज (9 नवंबर) सीबीआई सबसे पहले उसे ‌द‌िल्ली सीबीआई हेडक्वार्टर लाई इसके बाद उसे स्कूल ले जाया जाएगा।

बता दें क‌ि बोर्ड अध्यक्ष देवेन्द्र ने उसे इस रिमांड के दौरान फरीदाबाद स्थित बाल सुधार गृह में रखने को कहा था, लेकिन सीबीआई अधिकारियों की सिफारिश पर उसे दिल्ली के बाल सुधार गृह में रखने को स्वीकृति दे दी है। सीबीआई की पूछताछ के दौरान बोर्ड की ओर से नियुक्त की गई अधिकारी ज्ञानवती भी साथ रहेंगी।

सूत्रों ने बताया कि सीबीआई द्वारा जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के समक्ष रखी गई दलीलों में कहा कि छात्र परीक्षा को स्थगित करवाना चाहता था और इस बात का पता परिजनों को न लगे तो इसके लिए उसने पीटीएम को भी स्थगित करवाने का प्लान बनाया था। इस प्लान को अंजाम देने पर दोनों ही स्थगित हो जाते।

परीक्षा स्थगित होने का पता परिजनों को न लगे इसलिए वह पीटीएम भी स्थगित करवाना चाहता था। सीबीआई पूछताछ के दौरान उसने इन सभी बातों को कबूला है। इसके अलावा गवाहों से पूछताछ के दौरान भी उसकी भूमिका रही है। जब उसने कबूल किया तो उस वक्त उसके पिता भी सामने बैठे थे।

रिमांड के दौरान सीबीआई ने उस दुकान का पता लगाना है जहां से उसने वारदात में प्रयोग किया गया हथियार खरीदा था। इसके अलावा वारदात में उसके साथ और कौन संलिप्त था इसका भी पता लगाया जाना है।

सीबीआई ने बोर्ड में कहा कि आरोपी ने वारदात को कबूल कर लिया है, इसे उसने अंजाम कैसे दिया इसके लिए उन्हें स्कूल जाकर क्राइम सीन को रीक्रिएट करना है। इसके अलावा सीबीआई को कुछ अन्य सबूत भी एकत्र करने हैं। इसी के चलते ही सीबीआई ने बोर्ड से 6 दिन का रिमांड मांगा था, लेकिन बोर्ड ने तीन दिन का रिमांड स्वीकार किया है।

प्रद्युम्न हत्याकांड : सामने आया अशोक की पत्नी का बयान, उगला ये सच

प्रद्युम्न हत्याकांड मामले में सीबीआई की नई थ्योरी के बाद पुलिस द्वारा बनाए आरोपी अशोक के परिवार को उम्मीद जगी है। आरोपी अशोक की पत्नी ममता का कहना है कि उन्हें फंसाया गया है। वो बेगुनाह है।

गुरुग्राम पुलिस ने अपनी साख बचाने के लिए जबरदस्ती उनके पति को इसमें मोहरा बनाया है। मंगलवार को इस मामले में सीबीआई द्वारा स्कूल के ही 11वीं कक्षा के छात्र को गिरफ्तार किया गया है। इसके बाद से अशोक के परिवार को न्याय मिलने की आस जगी है।

ममता ने बताया कि अशोक के जेल जाने के बाद वह हर 15 दिन में जेल उससे मिलने जाते हैं। अशोक, उसे व बच्चों को देखते ही रो पड़ता है। अनेक बार उन्होंने व अन्य परिजनों ने अशोक से इस बारे में पूछा तो हर बार अशोक ने यही कहा कि उससे गुरुग्राम पुलिस ने केवल डंडे के जोर पर व नशे का इंजेक्शन देकर गुनाह कबूल कराया है।

‘स्कूल प्रबंधन और गुरुग्राम पुलिस की है पूरी मिलीभगत’

उसने कभी यह गुनाह किया ही नहीं है। इस मामले में स्कूल प्रबंधन और गुरुग्राम पुलिस की पूरी मिलीभगत है। ममता ने बताया कि अशोक कभी यह काम कर ही नहीं सकता। उस पर बच्चे के साथ गलत काम करने का भी आरोप लगाया जा रहा है। उनकी शादी को 12 साल हो गए हैं, लेकिन आज तक उन्होंने अपने बच्चों को डांटते हुए तक नहीं देखा है।

वह तो स्कूल में गलत काम करने का आरोप लगा रहे हैं, लेकिन जहां उनका घर है वहां से कुछ ही दूरी पर पहाड़ी क्षेत्र शुरू हो जाता है और हर वक्त सुनसान रहता है। जब यहां ही उन्होंने कोई गलत काम नहीं किया तो स्कूल में कैसे कर सकते हैं।

इससे पहले भी वह दो अन्य स्कूलों में नौकरी कर चुके हैं। वहां से भी जांच कराई गई हैं। वहां से भी उनका पूरा रिकॉर्ड सही पाया गया है। पूरे गांव को पता है कि अशोक ने आज तक किसी से उंची आवाज में बात तक नहीं की। उनके जेल जाने के बाद घर के आर्थिक हालात बिगड़ गए हैं। घर का गुजारा करना भी मुश्किल हो गया है। राशन भी उधार लाना पड़ रहा है।