फरीदाबाद

Not even after 10 years Pujan will knock the door of HARERE

10 साल बाद भी नहीं मिला पजेशन, हरेरा का दरवाजा खटखटाएंगे बायर्स

लगभग 10 साल से सुभाष चौक के नजदीक यूनिवर्ल्ड रिजॉर्ट में प्लॉट का इंतजार कर रहे बायर्स शनिवार को कंस्ट्रक्शन साइट पर इकट्ठा हुए। उनका आरोप है कि बिल्डर ने अब तक बुनियादी सुविधाएं मुहैया नहीं कराईं हैं। यहां न तो सड़क बनाई गई है और न ही पानी, बिजली और सीवर की व्यवस्था की गई है। इस अनदेखी की वजह से कुछ लोगों ने जमीन पर कब्जा कर लिया है और बिल्डर कुछ नहीं कर रहा। ऐसे में अब बायर्स हरियाणा रियल एस्टेट रेगुलेटरी अथॉरिटी (हरेरा) का दरवाजा खटखटाने की तैयारी में हैं।

साल 2008 में यूनिटेक ने इस प्रॉजेक्ट के लिए बुकिंग शुरू की थी। यहां 210 प्लॉट्स हैं, जो 190 वर्ग गज से लेकर 1000 वर्ग गज तक के हैं। इसे 3 साल में पूरा कर बायर्स को पजेशन दे देना था, लेकिन 95 प्रतिशत पेमेंट लेने के बाद भी अब तक प्लॉट्स का पजेशन नहीं दिया गया है। मौके पर बुनियादी सुविधाएं मुहैया नहीं करवाई गई हैं। इसके चलते कुछ परिवारों ने तो मकान निर्माण को अधर में छोड़ दिया है।

क्या कहते हैं रेजिडेंट्स

एक तो बिल्डर ने प्लॉट नहीं दिया है। जहां पर प्लॉट देने हैं, वहां अब कुछ लोगों ने जमीन पर अतिक्रमण करना शुरू कर दिया है। अब डर लग रहा है कि कहीं बिल्डर की अनदेखी के चलते जमीन भी न चली जाए।

– सुमित खन्ना, बायर

पिछले 10 साल से प्लॉट का इंतजार कर रहे हैं। जमीन पर कबाड़ियों ने कब्जा कर लिया है। टैक्सी स्टैंड बना दिया गया है। मीट की दुकान भी खोल दी हैं। बिल्डर को कम से कम अवैध कब्जों को तो रोकना चाहिए।

– पी. के. गुप्ता, बायर

अब बैंक की ईएमआई भी देनी पड़ रही है और किराया भी। हर शनिवार को उम्मीद के साथ कंस्ट्रक्शन साइट पर जाता हूं, लेकिन कुछ नहीं मिलता है। अब इस मामले में हरेरा में याचिका दाखिल करने जा रहा हूं।

– रूद्रागोडा पाटिल, बायर

क्या कहते हैं प्रेजिडेंट

बिल्डर की मनमानी के चलते 210 परिवार परेशान हैं। मकान बनाने का सपना 10 साल बाद भी पूरा नहीं हो सका है। जहां मकान बनाना था, अब उस जमीन पर अवैध कब्जा होना शुरू हो गया है। ऐसा लग रहा है कि बिल्डर की अनदेखी से जमीन भी हाथ से नहीं चली जाएगी। बिल्डर को बुनियादी सुविधाएं मुहैया करवाकर प्लॉट का पजेशन देना चाहिए।

– आर. पी. अग्रवाल, प्रेजिडेंट, यूनिवर्ल्ड रिजॉर्ट वेलफेयर असोसिएशन

क्या कहते हैं अधिकारी

इस मामले में यूनिटेक के प्रतिनिधियों को तलब किया जाएगा। उनसे पूछा जाएगा कि बुनियादी सुविधाएं मुहैया करवाने में क्या दिक्कत आ रही है। साथ ही यह भी निर्देश जारी किए जाएंगे कि निर्माणाधीन साइट से अतिक्रमण को हटवाया जाए।

– आर. एस. बाठ, डीटीपी, टीसीपी

बिल्डर पर करोड़ों की धोखाधड़ी का आरोप

भूपानी थाने में ग्रेटर फरीदाबाद एरिया में काम कर रहे एक बिल्डर पर धोखाधड़ी के 2 मामले दर्ज किए गए हैं। शिकायतकर्ताओं न करोड़ों की धोखाधड़ी का आरोप लगाया है।

ओआरएस इन्फ्राट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर राजेंद्र प्रसाद ने आरोप लगाया है कि सेक्टर-89 में टीकावली गांव के पास बन रहे प्रॉजेक्ट के लिए मैक्सिमल इन्फ्राट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड के सुमित मित्तल व मधुर मित्तल ने उनसे 2003 में 22 एकड़ जमीन खरीदी थी। जमीन के एवज में दिए गए चेक बाउंस हो गए। शिकायत करने पर बिल्डर ने प्रॉजेक्ट के लिए डिवेलप की गई 3.5 एकड़ जमीन देकर एग्रीमेंट किया। आरोप है कि बाद में उसे भी रद्द कर दिया गया। इस पर राजेंद्र ने दोनों के खिलाफ केस दर्ज कराया है।

दूसरा केस हेरिटेज कॉटेज प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर प्रवीण खुराना ने दर्ज करवाया है। उनका आरोप है कि बिल्डरों ने उनसे 9.50 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की है। भूपानी थाने के एसएचओ कुलदीप ने बताया कि दोनों मामलों की जांच आर्थिक अपराध शाखा को ट्रांसफर की गई है।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *